Home / बुन्देलखण्ड / उत्तर प्रदेश / झांसी / योगी जी संभालों अपने विधायकों को….सत्ता के मद में चूर विधायक….मेरे कहने के बाद भी कैसे किया मुकदमा दर्ज….अब नही रह पाएगा थानेदार….पत्रकारों से डरता नही….क्या विधायक के हाथ की कटपुतली पुलिस विभाग

योगी जी संभालों अपने विधायकों को….सत्ता के मद में चूर विधायक….मेरे कहने के बाद भी कैसे किया मुकदमा दर्ज….अब नही रह पाएगा थानेदार….पत्रकारों से डरता नही….क्या विधायक के हाथ की कटपुतली पुलिस विभाग

 धीरेन्द्र रायकवार ब्यूरो रिपोर्ट टाइम समाचार झांसी

दफन हुआ मुख्यमंत्री का आदेश—-

झाँसी – वर्तमान मुख्यमंत्री द्वारा घोषणा की गई थी, कि पत्रकारों के साथ चाहे वह अधिकारी हो या संबंधित नेता पत्रकारों के साथ किसी भी प्रकार की बदसलूकी बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं की जाएगी, लेकिन शायद यह भाषणों सुनने एवं कागजों में ही दफन हो कर रह गये है।

उन्हीं के जन प्रतिनिधि उड़ा रहें आदेशों की धज्जिया—-

जब मुख्यमंत्री के आदेशों की धज्जियां उन्हीं के जनप्रतिनिधी विधायक(बबीना राजीव सिंह पारीक्षा द्वारा SSP कार्यालय प्रांगण में खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है और तो और वह पत्रकार के, दबंग विरोधियों को लेकर खुद एसएसपी कार्यालय उनकी सिफारिश SSP विनोद कुमार सिंह से करने पहुंचे, पत्रकारों पर भड़कते हुए बोले आप लोगों की वजह से मेरे संरक्षण में कार्य करने वाले व्यक्ति के खिलाफ मेरे फोन करने के बावजूद भी जिस थानाध्यक्ष ने मामला पंजीकृत किया है। मैं उस थाने के थानेदार को जिले में ही नहीं रहने दूंगा, उनका ट्रांसफर करवा दूंगा, इस जिले में रहना दूभर कर दूंगा।

यह है पूरा मामला——

मामला झांसी जिले के तहसील मोठ क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले थाना समथर के ग्राम छपार का है। जहां बंदूक की नौक पर पत्रकार के मकान के सामने बलपूर्वक अपने मकान का दरवाजा कर लिया। जब इसकी शिकायत संबंधित थाने में की गई तो पूरे मामले की गहराई से जांच की गई। जो मामला सत्य पाए जाने पर समथर थानाध्यक्ष मनोज कुमार वर्मा द्वारा उक्त मामले को विभिन्न धाराओं में पंजीकृत किया गया। उसके बाद शुरू हुआ राजनीति के खेल का मामला।  उक्त पुरे मामले को लेकर पीड़ित पत्रकार अपने साथियों के साथ एसएसपी कार्यालय झांसी पहुंचा वहीं पर पीड़ित पत्रकार के दबंग विरोधियों को लेकर बबीना विधायक राजीव सिंह पारीक्षा पहुंचे। जहां पर पत्रकार साथियों से विधायक द्वारा उक्त पूरे मामले में को दबंगई के दम पर उक्त दरवाजा करने वाले दबंगों पर किसी भी प्रकार की कार्यवाही नहीं होगी की चेतावनी उन्होंने सभी पत्रकारों को दी व SSP कार्यालय के सामने ही पत्रकारों पर भड़क उठे अपनी दबंगई की पराकाष्ठा पेश करते हुए कहने लगे कि आप लोगों ने मेरे संरक्षण में रहने वाले व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा लिखवाया है।

पुलिस विभाग, क्या सत्ता के विधायक के हाथ की कटपुतली—-

सबसे बड़ी बात यह है कि जब मैंने(विधायक राजीव सिंह पारीक्षा)  संबंधित थानेदार को फोन किया था तो उन्होंने मुकदमा कैसे लिख दिया। में उस थानेदार को वहां रहने नहीं दूंगा और बोले कि मैं पत्रकारों से डरता नहीं हूं। और तुम लोग जो मुकदमा लिखवा रहे हो वह फर्जी है। आखिर थानेदार ने मेरे संरक्षण में रहने वाले व्यक्ति के खिलाफ मामला पंजीकृत किया है। वह अब उस थाने में क्या झांसी जिले में रह नहीं पायेगा।

विधायक जी की बात न मानने पर विद्यायक का थानेदार पर इतना गुस्सा, तो फिर मुख्यमंत्री जी के आदेशों की आप खुलेआम उड़ा रहें है धज्जिया, मुख्यमंत्री जी को कितना करना चाहिए आप पर गुस्सा—–

कुछ ऐसे ही बोले थे विधायक राजीव सिंह पारीक्षा——उन्हें अपनी प्रेस्टीज की है फ़िक्र, चाहे फिर मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री के आदेशों की उड़ती रहे धज्जियां, हमारा आदेश, आदेश है जबकि मुख्यमंत्री ने दिया था आदेश, पत्रकारों के साथ नहीं होगी बदसलूकी, जिसकी विधायक ने SSP कार्यालय प्रांगण में ही उड़ा दी धज्जियां, मुख्यमंत्री के आदेश की उड़ाई धज्जियां, पर मेरे आदेश को मानना होगा, ऐसे हैं विधायक राजीव सिंह पारीक्षा।

सत्ता में विधायक की हनक, क्या वर्दी की नहीं है अहिमत, 

अब देखना यह होगा कि विधायक जी तो कह दिया की मैं उस थानेदार को पूरे जिले में नहीं रहने दूंगा। जिस पुलिस विभाग ने जनता की सेवा के लिए कसम खाई थी क्या उस पुलिस विभाग के उच्च अधिकारी विधायक के कहने पर संबंधित थानेदार का ट्रांसफर करते हैं या फिर पुलिस अपने बलबूते पर जनता की रक्षा करने वाली पुलिस विभाग में ऐसे सच्चे और ईमानदार पुलिसकर्मियों पर अगर इन सत्ता के नुमाइंदों द्वारा ऐसे ही ट्राॅसफर होते रहे तो एक न एक दिन हर विभाग में सिर्फ और सिर्फ भ्रष्टाचार ही रहेगा। क्योंकि सच्चाई कहने से फिर वह चाहे पुलिस विभाग हो या कोई अन्य विभाग क्योंकि जिसकी सत्ता वह कुछ भी कर सकता है। किसी का भी ट्रांसफर करा सकता है किसी को भी सस्पेंड करा सकता है फिर क्यों सरकार दावे कर रही है भ्रष्टाचार मिटेगा भाजपा लाओ गुंडई हटाओ वगैरा-वगैरा न जाने कितने दाबे सरकार द्वारा किए जा रहे हैं। लेकिन उन दावों को पलीता लगाने का काम उन्हीं के संबंधित छुटभैया नेता या विधायकों द्वारा किया जा रहा है। कुछ ऐसा ही झांसी जिले के तहसील मोंठ क्षेत्र के वरिष्ठ पत्रकार के मामले में हुआ है। अब को देखना यह होगा कि क्या SSP साहब द्वारा विधायक जी के कहने पर संबंधित थानेदार का ट्रांसफर होता है या फिर पुलिस विभाग अपने कर्तव्यों का पालन करता है या फिर पुलिस विभाग द्वारा ली गई शपथ विधायक जी के कहने पर कमजोर पड़ जाती है।

 

About time samachar

Check Also

अग्रज इण्टर कालेज का अवैध कब्जा बना चर्चा का विषय, अधिकारी बने मूकदर्शक, CM की सोच पर लगा रहे पलीता

ब्यूरो रिपोर्ट टाइम समाचार झांसी झाॅसी/मोंठ – उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सत्ता में आते ही …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *