Home / बुन्देलखण्ड / उत्तर प्रदेश / झांसी / सहकारी समिति के चुनाव में गोलमाल

सहकारी समिति के चुनाव में गोलमाल

समथर/झांसी – वैसे तो भाजपा जब से सत्ता में आई है तभी से लगातार दबंगई भारतीय जनता पार्टी के नेता हो चाहे छुटभैया नेताओं द्वारा लगातार दबंगई देखने को मिल रही है, कुछ ऐसा ही हाल है झांसी जनपद के मोंठ ब्लॉक के ग्राम लोहागढ़ में जहां
सहकारी समिति का चुनाव आया ही था कि भाजपा के लोगों की कोशिशें तेज हो गई, यानि कि अधिक से अधिक सदस्य बनाने के साथ ही पुराने सदस्यों को का समर्थन जुटाना शुरू हो गया है, जैसे ही जिला सहकारी समिति के चुनाव के लिए हरी झंडी दी गई, थी, उसी प्रकार सत्ताधारी पार्टी की ओर से चुनाव को लेकर सक्रिय बने हुए हैं, इसमें मुख्य रूप से सहकारी राजनीति का रुख अपनी और करने की जद्दोजहद तेज कर दी है, इसके अलावा भी सत्ताधारी पार्टी के नेता ऐसे हैं, जो कि गोपनीय ढंग से जिला सहकारी समिति साकिन के चुनाव को लेकर सियासी जमीन पुख्ता करने में लगे हैं, वहीं जिला सहकारी समिति के मौजूदा कर्मचारियों की तरफ से पूरी तरह सत्ता का पक्ष भी किया जा रहा हैं और बात की तो यह भी कहा जा रहा है, जिसकी लाठी उसी की भैंस यानि हम कर्मचारियों का काम तो जिसकी सरकार होती है उसी के पक्ष में काम किया जाता हैं सहकारी समिति की तस्वीर पूरी तरह साफ है कि वह सत्ताधारी पार्टी के लोगों की ही जीत सुनिश्चित है क्योंकि जहां पर विभाग के कर्मचारियों के ही द्वारा जिस किसी की भी मदद की जाए तो उसी की जीत निश्चित है

आरोप—–

जैसे ही जिला सहकारी समितियों का चुनाव की तारीख तय हुई ही थी कि भाजपा पार्टी का गढ़ माना जाने बाला साकिन में राजनीति गर्माने लगी और एक भाजपा के दिग्गज नेता ने समिति के चुनाव को अपनी प्रस्टीज बना लिया है और बोटारो का आरोप है कि भाजपा नेता के कहने पर लिस्ट तैयार की गई है जब कि अंतिम लिस्ट 16 तारीख को प्रकाशित होनी थी 16 तारीख को प्रकाशित न करके नामांकन के एक दिन पहले की जब लिस्ट को देखा गया, तो जो लोग लड़ने के उम्मीदवार थे, उनका नाम महिला सीट बाले बार्ड में नाम कर दिया गया है, जब इस विषय में टाइम समाचार की टीम ने जानकारी सचिव से लेनी चाही तो साचिव का सीधे सवाल था, हम कर्मचारियों की तो जिसकी सरकार उसी के हम हमारे ऊपर के अधिकारियों के द्वारा जैसा कहा जाएगा वैसा करेंगे इधर बोटारो का कहना है कि हमारे साथ कर्मचारियों के द्वारा दोगला व्यवहार किया जा रहा हैसहकारी बैंक के जानकारों की माने तो जिला सहकारी बैंक के चुनाव को लेकर अब आए दिन नए समीकरण बनेगे और बिगड़ेंगे, जो नया गठजोड़ बनेगा, भाजपा की पहली कोशिश अपना अपनों में से ही किसी को चेयरमैन बनाने की होगी, यदि उनकी यह कोशिश नाकाम होती है तो वह सत्ताधारी पार्टी के किसी नेता को आगे कर जिला सहकारी बैंक पर कब्जा कर सकते हैं । उन्हें मालूम है कि सत्ताधारी पार्टी चुनाव को प्रतिष्ठा का प्रश्न बना कर लड़ेगी इसके बाद भी सत्ता पक्ष का अध्यक्ष पद पर नहीं चुना गया है तो सत्ता के दिग्गज नेताओं की क्या रह जायेगी और ऊपर अपने आकाओं को क्या मुँह दिखायेगे, इसलिए सुनिश्चित है भाजपा पार्टी के लोगों के ही उम्मीदबार ही जीत दर्ज कर अध्यक्ष पद पर चुने जायेगे इधर उम्मीदवारो के द्वारा कहा जा रहा है कि कर्मचारियों के साथ मिल कर चुनाव लड़ना यह है भाजपा का योगी राज कहा गए वरिष्ठ अधिकारी, आज नामांकन किया जाना है और कई जगह लिस्ट भी उपलब्ध नहीं है, यह क्या संदेश दिया जा रहा है, अधिकारीयो का इससे हो रही है छवि धूमिल और जनता का उठ रहा है अधिकारी यो से विश्वास।

रिपोर्ट
यशपालसिंह

About time samachar

Check Also

यहां चला अतिक्रमण पर सयुक्त डंडा

समथर (झांसी):- शासन प्रशासन की दिशा निर्देश के तहत कस्बा समथर के बाजार वाले हिस्से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *