Breaking News
Home / बुन्देलखण्ड / उत्तर प्रदेश / झांसी / EXCLUSIVE:नियमों को ताक पर रखकर झांसी में भू-माफिया बना रहे हैं अवैध कॉलोनियां, कार्यवाही के नाम पर झांसी विकास प्राधिकरण में नोटिस नोटिस का खेल जारी
पहुंच नदी से सटी बनी गणेश विहार कालोनी

EXCLUSIVE:नियमों को ताक पर रखकर झांसी में भू-माफिया बना रहे हैं अवैध कॉलोनियां, कार्यवाही के नाम पर झांसी विकास प्राधिकरण में नोटिस नोटिस का खेल जारी

झाँसी। थाना सीपरी बाजार अंतर्गत झांसी विकास प्राधिकरण के अधिकारियों की मिलीभगत से नियमों को ताक पर रखकर भूमाफिया तेजी से बड़ी बड़ी कॉलोनियों को बनाने में जुटे हैं। झांसी में बन रही अवैध कॉलोनियों पर कार्रवाई के नाम पर झांसी विकास प्राधिकरण कई सालों से नोटिस थमाकर खाना पूर्ति करने में जुटा है। हैरानी की बात तो यह है कि झांसी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष जब स्वयं जिलाधिकारी महोदय हों तो ऐसे में गंभीर सवाल उठना भी लाजमी है। हाल ही में जन सूचना अधिकार के तहत दी गई जानकारियों के आधार पर कोई ऐसी बड़ी कॉलोनीयों के नाम प्रकाश में आये है जो बनकर तो तैयार हैं लेकिन उनके पास झांसी विकास प्राधिकरण से कोई प्रमाण पत्र नही है। इतना ही नहीं सूखे की मार झेल रहा बुंदेलखंड में भी भूमाफियाओं ने के पहुंच नदी के आस पास भी कॉलोनियां बना दी। पहुंच नदी पर गणेश विहार के नाम से बन रही यह कॉलोनी अपने आप मे कई सवाल खड़े करती है।

                        पहुँच नदी

नदी के डूब क्षेत्र में लगातार भव्य आलीशान कॉलोनियां विकसित हो रही हैं।भू माफिया नदी की ज़मीन को लगातार पाट रहे है नदी के किनारे भव्य आलीशान कालोनी बन गई है और लगातार कालोनियाँ बनना भी जारी है । नदी के आसपास बसे लोगों ने पहूज नदी के डूब क्षेत्र के साथ ही नदी पर मालिकाना हक़ जता दिया है। इन निर्माण कार्यों को रोकने की पहल न तो जिला प्रशासन ने की, ना ही नगर निगम ने, ना ही झांसी विकास प्राधिकरण ने। जबकि नदी के डूब क्षेत्र में आवास बनाया जाना अवैध माना जाता है।नदियों के संरक्षण और संवर्धन के लिए कई अभियानों में शामिल रहे सामाजिक कार्यकर्ता  बताते हैं कि नदी की जमीन पर किसी भी सूरत में मकान नहीं बनाया जा सकता। सवाल यह है कि नदी की जमीन कब और किन परिस्थितियों में लोगों की निजी संपत्ति के रूप में दर्ज हो गई। इस पूरे मामले में प्रशासन की भूमिका पर सवाल खड़े हो रहे हैं। नदी के किनारे मिट्टी डालकर लोग इसे समतल करने में लगे हुए जिले के किसी भी विभाग के किसी भी अधिकारी को इससे लेना देना नहीं है। जमीन कारोबारी नदी को कब्ज़ा कर कॉलोनी बसा रहा है और सरकारी अमला इन्हे अघोषित रूप से संरक्षण दे रहा है

नदी की भूमि पर किया जा रहा कब्ज़ा

इस मामले में बुंदेलखंड के प्रभारी मंत्री श्री राजेंद्र प्रताप सिंह भी मानते हैं की पहुंच बांध पर बन रही गणेश विहार कॉलोनी हो सकता है कि कई मानकों पर खरी नहीं उतरी हो इस मामले की जांच की जा रही है। सिंचाई विभाग के चीफ इंजीनियर को इस संबंध में दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं। ग्रीन बेल्ट को लेकर भी जांच की जा रही है वहीं दूसरी ओर टाउन प्लानर को भी पानी के चढ़ाव को चेक करने हेतु निर्देश दिए गए हैं। अगर उस भूमि में कोई भी अंश सरकारी है तो कार्यवाही निश्चित होगी।

About Time Samachar

Check Also

पूर्व गरौठा विधायक दीपनारायण यादव ने किया सभासद प्रत्याशियों के कार्यालयों का उद्घाटन

झाँसी। वार्ड नं 41 के पार्षद प्रत्याशी श्रीमती रमादेवी के चुनाव कार्यालय के उद्धघाटन पूर्व …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *