Breaking News
Home / बुन्देलखण्ड / उत्तर प्रदेश / झांसी / शिक्षा विभाग की नॉक नीचे बच्चों के भविष्य से हो रहा बड़ा खिलबाड़ , जिला प्रशासन मौन

शिक्षा विभाग की नॉक नीचे बच्चों के भविष्य से हो रहा बड़ा खिलबाड़ , जिला प्रशासन मौन

(झाँसी) टहरौली– नया सत्र शुरू होते ही टहरौली में नये नये स्कूल खोले गये हैं। और इस वर्ष टहरौली में नये नये स्कूलों की बाढ़ सी आ गयी है।  इस वर्ष टहरौली में यह स्कूल कुकरमुत्तों की तरह दिखाई दे रहे हैं। जी हाँ, कुकरमुत्तों की तरह, क्योंकि न तो यह स्कूल सरकार के कोई भी मानक पूरे कर रहे हैं और न ही इन स्कूलों की मान्यता है। टहरौली में ये गैरमान्यता प्राप्त स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों के संरक्षण में फल फूल रहे हैं। शिक्षा विभाग के सम्बन्धित और जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही का आलम यह है कि बड़े बड़े बोर्ड लगाये हुये और झाँसी – गुरसराय मुख्य मार्ग पर मौजूद इन फर्जी स्कूलों पर आज तक नजर ही नहीं पड़ी। शिक्षा विभाग के अधिकारियों के संरक्षण में चल रहे टहरौली के ये गैरमान्यता प्राप्त स्कूल जहाँ प्रदेश सरकार के निर्देशों को पलीता मार रहे हैं वहीँ दूसरी ओर ये गैरमान्यता प्राप्त स्कूल छात्र छात्राओं के भविष्य के साथ भी खिलवाड़ कर रहे हैं।
शिक्षा विभाग सब जानते हुए है मौन 
अपने कर्तव्यों के प्रति गैरजिम्मेदार और उदासीन, शिक्षा विभाग के ये अधिकारी टहरौली में समय समय पर छापा मारने और स्कूलों की जांच करने भी आते हैं, लेकिन इन गैरमान्यता प्राप्त स्कूलों के संचालकों द्वारा “डील” के तहत इनको फीलगुड करवा कर वापस भी भेज दिया जाता है। यहाँ टहरौली में शिक्षा विभाग के अधिकारियों की लापरवाही और गैरजिम्मेदारी का नतीजा यह है कि लगभग आधा दर्ज़न से अधिक गैरमान्यता प्राप्त स्कूलों में ही लगभग 800 से अधिक छात्र छात्रायें अध्यनरत हैं।  जबकि एक स्कूल को जिस स्थान पर मान्यता दी गयी है उस पर किसी भी प्रकार की कोई ईमारत ही नहीं बनी है | अब सवाल यह उठता है कि इस बिना किसी ईमारत या भवन के इस स्कूल को मान्यता किस आधार पर दे दी गयी ? जिस समय इस स्कूल को मान्यता दी गयी तो गुरसराय ब्लाक में ए.बी.एस.ए. के पद पर जमील खान पदस्थ थे और उनके और उक्त स्कूल संचालक के बीच में अच्छी खासी डील भी हुयी थी।  केवल इस स्कूल में ही 450 से अधिक छात्र छात्रायें अध्यनरत हैं.जबकि इस स्कूल की मान्यता में जिस स्थान का उल्लेख किया गया है उस स्थान पर कोई भवन ही निर्मित नहीं है।
बड़ी मात्रा में टहरौली में खुले है गैरमान्यता प्राप्त स्कूल 
इस समय टहरौली में जो स्कूल गैरमान्यता के चल रहे हैं उनमें से सन्त आर.आर.डी. पब्लिक स्कूल, शान्तिकिशुन पब्लिक स्कूल, पी.एस.नायक पब्लिक स्कूल,शिक्षावर्ल्ड पब्लिक स्कूल और श्री बालाजी शिक्षा निकेतन आदि प्रमुख हैं जिसमें सभी स्कूलों में 100 से अधिक छात्र छात्रायें अध्यनरत हैं | अगर मानकों की बात की जाये तो ये स्कूल शासन द्वारा जारी किये गये मानकों को किसी भी तरह से पूरा नहीं करते हैं और आंकड़ों की बात की जाये तो इन गैरमान्यता प्राप्त स्कूलों में छात्र छात्राओं की अच्छी खासी संख्या देखने को मिल जाती है। अगर इन गैरमान्यता प्राप्त स्कूलों मे छात्रांकन की बात की जाये तो सन्त आर.आर.डी. पब्लिक स्कूल में 100 से अधिक छात्र छात्रायें, शान्तिकिशुन पब्लिक स्कूल में 200 से अधिक छात्र छात्रायें, पी.एस.नायक पब्लिक स्कूल में 150 से अधिक छात्र छात्रायें, शिक्षावर्ल्ड पब्लिक स्कूल में 120 से अधिक छात्र छात्रायें और श्री बालाजी शिक्षा निकेतन में 150 से अधिक छात्र छात्रायें अध्यनरत हैं। पी.एस.नायक. मैमोरियल पब्लिक स्कूल एक विवाह घर में संचालित हो रहा है जोकि नियम विरुद्ध है।
     अब सवाल यह उठता है कि बड़े बड़े बैनर पोस्टर और होर्डिंग से पटे हुये, और टहरौली के मुख्य मार्ग पर स्थित इन गैरमान्यता प्राप्त स्कूलों पर अभी तक शिक्षा विभाग के बड़े एवं जिम्मेदार अधिकारियों की नजर क्यों नहीं पड़ी ? पहले तो जब इन विषय में यहाँ के एन.पी.आर.सी. बसीर खान से बात की गयी तो उन्होंने पहले तो आनाकानी की और बाद में अपना पल्ला झाड़ते हुये बोले कि मुझे मान्यता सम्बन्धी कोई जानकारी नहीं होती है | फिर एन.पी.आर.सी. बसीर खान की टहरौली के मान्यता प्राप्त स्कूलों की सूची केवल बी.एस.ए. झाँसी और ए.बी.एस.ए. गुरसराय के पास ही है, जिसकी मुझे कोई जानकारी नहीं है। जब इन गैरमान्यता के चल रहे इन स्कूलों के बारे में ए.बी.एस.ए. गुरसराय श्रीमती नीतू वर्मा से बात की गयी तो उन्होंने कहा कि इन नामों से कोई भी स्कूल पंजीकृत नहीं हैं | ए.बी.एस.ए. गुरसराय श्रीमती नीतू वर्मा ने बताया कि केवल शिक्षावर्ल्ड पब्लिक स्कूल के प्रबन्धक ने मान्यता के लिये फाइल डाली है जिस पर कार्यवाही जारी है, परन्तु अभी तक इस स्कूल को मान्यता नहीं मिली है।
क्या बोलीं ए.बी.एस.ए. गुरसराय
ए.बी.एस.ए. गुरसराय श्रीमती नीतू वर्मा के अनुसार उनको टहरौली में गैरमान्यता के चल रहे इन स्कूलों की कोई जानकारी नहीं थी। ए.बी.एस.ए. गुरसराय श्रीमती नीतू वर्मा ने बताया कि टहरौली में चल रहे इन गैरमान्यता प्राप्त स्कूलों को चिन्हित करके शीघ्र ही इन स्कूलों पर एवं इनके प्रबन्धकों पर कठोर कार्यवाही की जायेगी।
रिपोर्ट – रीतेश मिश्रा टहरौली 

About Time Samachar

Check Also

पुलिस की लापरवाही से छेड़खानी का शिकार हुई छात्रा

झाँसी | थाना चिरगांव में सातवीं कक्षा की छात्रा को फ़ोन पर अश्लील बात कर परेशान करने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *