Home / बुन्देलखण्ड / उत्तर प्रदेश / चेलरा घाट खनन जारी, सत्ता की हनक या प्रशासन का संरक्षण : रिपोर्ट-धीरेन्द्र रायकवार

चेलरा घाट खनन जारी, सत्ता की हनक या प्रशासन का संरक्षण : रिपोर्ट-धीरेन्द्र रायकवार

मोंठ/झांसी – एक ओर जहां शासन प्रशासन द्वारा खनन रोकने के लिए दावे किये जा रहे हैं, और सरकारी मशीनरी भी खनन की बात से साफ इंकार कर रही है, लेकिन कहीं न कहीं खनिज माफिया सरेआम प्रशासन की आंखों में धूल झोंककर आज भी खुलेआम खनन कर रहे हैं, इसे शासन की छूट कहें या फिर सत्ता की हनक, जी हां हम बात कर रहे बुंदेलखंड के झांसी जनपद कि जहां तहसील मोंठ के वेतवा नदी पर चेलरा घाट है, जो की वर्तमान विधायक के भाई का है, जैसा कि अब तक बताया गया है कि ग्राम चेलरा घाट पर जिलाधिकारी से डंप की परमीशन लेकर खेल खेला जा रहा है, इस बात से हम नहीं मुकर सकते कि कहीं न कहीं शासन प्रशासन की ही मिलीभगत से यह खेल भी इस खेल में लिप्त है, लेकिन आपको बता दें कि य तो सत्ता के दबाव में प्रशासन ने आखें मूंद ली है य फिर प्रशासन की आंखों में सरेआम धूल झोंककर ट्रैक्टर फर्राटे से पूरे दिन रात ट्रैक्टर दौड़ाये जा रहे हैं, जबकि डंप की परमिशन से टैक्टर निकालनी कि बात सामने आ रही थी, वही वहीँ एक चौकने वाली एक बात और भी सामने आई है, जिसमें कहीं न कहीं आप भी सोच में पड़ जाएंगे, जी हम बात कर रहे हैं, अवैध खनन की जहाँ बालू का लगभग 3 माह पहले डंप किया गया था, लगभग एक माह पहले डम्प की परमिशन ली गई थी, तो बालू में पानी होने की संभावना हो ही नहीं सकती, वहीं बालू से भरे ट्रैक्टरों से पानी टपकता हुआ जाता है, जिससे साफ जाहिर हो रहा है कि बालू नदी से उठाई जा रही है,

लगातार एक माह से लगातार बालू उठाई जा रही है, और पूरे दिन सैंकड़ों ट्रैक्टर फर्राटे भर रहे हैं, लेकिन एक बात सोचने पर मजबूर कर देती है कि एक माह से लगातार बालू का उठान हो रहा है, उसके बावजूद भी डम्प कम होने का नाम ही नहीं ले रहा है, आखिरी यह कैसा चमत्कारी डम्प है। अब देखना यह होगा कि झांसी जनपद के नव नियुक्त मुखिया द्वारा खनन माफियाओ के खिलाफ कोई कारवाई भी की जाती है या फिर यू ही खनन दौड़ता रहेगा।

About time samachar

Check Also

यहां चला अतिक्रमण पर सयुक्त डंडा

समथर (झांसी):- शासन प्रशासन की दिशा निर्देश के तहत कस्बा समथर के बाजार वाले हिस्से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *