Home / बुन्देलखण्ड / उत्तर प्रदेश / झांसी / अग्रज इण्टर कालेज का अवैध कब्जा बना चर्चा का विषय, अधिकारी बने मूकदर्शक, CM की सोच पर लगा रहे पलीता

अग्रज इण्टर कालेज का अवैध कब्जा बना चर्चा का विषय, अधिकारी बने मूकदर्शक, CM की सोच पर लगा रहे पलीता

ब्यूरो रिपोर्ट टाइम समाचार झांसी

झाॅसी/मोंठ – उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सत्ता में आते ही खनन माफिया भूमाफिया भ्रष्टाचार को प्रदेश से जड़ से उखाड़ फेंकने का वादा प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा किया गया था।

लेकिन प्रदेश के वर्तमान सत्ता द्वारा किया गए वादे कितने पूर्ण हुए या फिर प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा दफन कर दिए गए या फिर मामलों की सच्चाई सीएम योगी आदित्यनाथ के कानों तक नहीं पहुंच पा रही। कार्रवाई के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की गई या फिर प्रदेश में अवैध कब्जों के मामले संज्ञान में नहीं या फिर अपने द्वारा किए गए वादे भूल गए हैं।
कुछ ऐसा ही नजारा झांसी जिले की तहसील व नगर मोंठ में देखने को मिल रहा है। जहां पूर्व सत्ता की हनक में डूबे एक प्राइवेट इंटर कॉलेज के प्रबंधक द्वारा (नजूल) सरकारी जमीन पर विद्यालय की आड़ लेकर अवैध कब्जा कर लिया था। लेकिन उक्त विद्यालय की खबर कई बार प्रकाशित करने एवं प्रशासनिक अधिकारियों से शिकायत के बावजूद भी अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। 
पूरा प्रसाशनिक अमला आखिर क्यों कुंभकरण की नींद में सोने का बहाना बना रहा है। वही जब इस पूरे मामले पर लिखित रुप से मुख्यमंत्री हेल्पलाइन आईजीआरएस के माध्यम से शिकायत दर्ज की जाती है। तो उस पर मोंठ तहसीलदार श्रीराम यादव द्वारा बड़ी ही सफाई से अपने कर्तव्यों से किनारा करते हुए बड़े ही साफ शब्दों में लिखित रुप से जवाब देते हैं कि महोदय प्रकरण में भूमि संख्या 700/1 सहकारी संघ के नाम दर्ज कागजात हैं। उक्त भूमि नगर पंचायत सीमा क्षेत्र के अंतर्गत है। अतः राजस्व विभाग द्वारा कार्रवाई अपेक्षित नहीं है। अब मान लीजिए कि मोंठ तहसील क्षेत्र के अंतर्गत और भी सहकारी संघ के नाम जमीन खाली पड़ी हुई है, तो कार्रवाई कोई तहसील स्तरीय अधिकारी कर नहीं सकता, इसका मतलब तो यह हुआ कि लोग आराम से कब्जा कर सकते हैं। ऐसे ही हालातों से भूमाफियाओं के हौसले बुलंद हो जाते हैं। वह एक दिन दबंगई की दम पर गरीबों के घर में घुसकर भी कब्जा करने लगते हैं। कहीं न कहीं इन भूमाफियाओं के हौसले बुलंद करने में हमारे प्रशासनिक अधिकारियों की सुस्ती भी है जो कि माफियाओं के हौसले बुलंद करने में सक्रियता की भूमिका निभा रहे है। 
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा किए गए दावे को ठेंगा और उनकी सोच को पलीता लगाने का काम किया जा रहा है। अवैध कब्जे का यह मामला यही शांत नहीं हुआ था। उसके बाद वही आईजीआरएस की शिकायत फिर से जब उपजिलाधिकारी सुनील कुमार शुक्ला के पास आती है, तो वह भी अपनी जिम्मेदारियों से किस प्रकार बचते नजर आ रहे हैं। यह हम आपको बताते हैं, उन्होंने आईजीआरएस की शिकायत में लिखित रुप से इस बात को भी कबूला है। कि उक्त विद्यालय का अवैध कब्जा है, उक्त विद्यालय की नाप करने पर दर्ज कागजात के अनुसार क्षेo अधिक है, उक्त विद्यालय के चारों ओर घनी आबादी है, विद्यालय के पूर्वी भाग में आबादी है, विद्यालय के पश्चिम भाग में आबादी है, विद्यालय के उत्तर भाग में पक्का रास्ता ब्लॉक की बाउंड्री है, दक्षिण भाग में आबादी है, लेकिन अब एक बात यह नहीं समझ आती कि जब चारों ओर आबादी है तो उक्त बीचों-बीच विद्यालय की जमीन आखिर कैसे कृषि में हो सकती है, जब उक्त भूमि के संबंध में गहराई से जांच की गई तो पता चला कि जब से देश आजाद हुआ है तभी से वह जमीन आबादी में दर्ज है। मौके पर नापी गई जमीन पर सहकारी संघ का पुराना बीज गोदाम था जो मौके पर नहीं है, यानी मिटा दिया गया है, इन सभी की पुष्टि मोठ SDM सुनील कुमार शुक्ला ने की है। उसके बावजूद भी पूरा तहसील स्तरीय प्रशासनिक अमला अवैध कब्जे की पुष्टि भी कर रहा है। मौके पर बीज गोदाम था जो उक्त  विद्यालय के संचालकों द्वारा मिटा दिया गया है। जो भूमि 703 रकवा है वह अग्रज सरस्वती शिक्षा मंदिर  इंटर कॉलेज व प्रबंधिका राधा देवी के नाम दर्ज है, जो कि कृषि की भूमि दर्शाकर खरीदी गई है। जिसमें कुल 3 हजाार 5 सौ पचास रू के स्टांप लगे हैं। मुख्य मार्ग से 500 मीटर दूरी पर दर्शाया गया है। जबकि ऐसा नहीं है, उक्त विद्यालय की दूरी मुख्य मार्ग से 500 मीटर भी नहीं है, उक्त जमीन को कृषि में दर्शाकर राजस्व को लाखों रुपए का चूना लगाने का काम उक्त विद्यालय द्वारा किया गया है। 
SDM मोंठ द्वारा लिखित रुप से कहीं गई बात—
कब्जे के मामले में अवगत कराना है कि प्रकरण मौजा मोंठ के राजस्व अभिलेखों में गाटा संख्या 703 रकबा 0.490 हेo अग्रज सरस्वती शिक्षा मंदिर के नाम दर्ज है तथा गाटा संख्या 700 मिन जुमला नंबर है, जिसमें 700/1 रकवा 0.550 हेo सहकारी संघ समिति के नाम दर्ज कागजात है, 700/2 रकवा 0.291 हेo 
टीकमचन्द्र, केशवचन्द्र, महेशचन्द्र के नाम दर्ज कागजात है तथा गाटा सं 700/3 रकवा 0.510 हेo आबादी के रूप में दर्ज है। मौके पर सघन आबादी है, 
विद्यालय के पूर्व में आबादी, पश्चिम में आबादी, उत्तर में पक्का रास्ता व ब्लॉक की बाउंड्री, दक्षिण भाग में आबादी मौके पर स्कूल के भवन का क्षेत्रफल पापा  जिसका क्षेत्रफल क्षेत्रफल 50 से अधिक है मौके पर जांच में सहकारी संघ का गोदाम था जो मौके पर नहीं है। मिटा दिया गया है, सहकारी संघ द्वारा स्वयं की भूमि कार्यवाही किया जाना न्यायोचित है।

About time samachar

Check Also

योगी जी संभालों अपने विधायकों को….सत्ता के मद में चूर विधायक….मेरे कहने के बाद भी कैसे किया मुकदमा दर्ज….अब नही रह पाएगा थानेदार….पत्रकारों से डरता नही….क्या विधायक के हाथ की कटपुतली पुलिस विभाग

 धीरेन्द्र रायकवार ब्यूरो रिपोर्ट टाइम समाचार झांसी दफन हुआ मुख्यमंत्री का आदेश—- झाँसी – वर्तमान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *